रहने दो…!!!


रहने दो

सारे वादे भूला सकता हूँ; लेकिन रहने दो,
मैं तुम्हे छोड़ के जा सकता हूँ; लेकिन रहने दो.

तुमने जो बात की दिल दुःखानेवाली,
मैं उस पर मुस्कुरा भी सकता हूँ; लेकिन रहने दो.

तुम जो हर मोड़ पर कह देती हो; ‘ख़ुदा हाफ़िज़’,
फैसला मैं भी सुना सकता हूँ; लेकिन रहने दो.

शर्म आएगी तुम्हे अपने आप पर वरना,
तुम्हारे वादे तुम्हे याद दिला सकता हूँ; लेकिन रहने दो.

– क्रिष्ना

Advertisements

One thought on “रहने दो…!!!

  1. ….. बहोत जबरजस्त लिखा है प्रिन्स
    “शर्म आएगी तुम्हे अपने आप पर वरना,
    तुम्हारे वादे तुम्हे याद दिला सकता हूँ; लेकिन रहने दो.”
    .
    कल-परसो और जन्मों के कस्मे-वादे छोड़
    जबतक साथ है …
    जी लेते हैं …
    बिना दिल को बीचमे डाल कर ….
    .
    ये कस्मे-वादे के पोस्ट-डेटेड “चेक”
    प्रेम-बेलेंस कम होने से बाउंस-ही-होना”है ….
    इसीलिए अब तय है …
    जबतक साथ है …
    जी लेते हैं …
    बिना दिल को बीचमे डाल कर ….

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s