गुज़ारिश

.
.
सिर्फ इतना ही कहा है – प्यार है तुमसे,
जज़बातों की कोई नुमाईश नहीं की.
.
.
प्यार के बदले सिर्फ प्यार माँगा है,
रिश्ते की तो कोई गुज़ारिश नहीं की.
.
.
चाहो तो भुला देना हमें दिल से,
सदा याद रखने की सिफ़ारिश नहीं की.
.
.
ख़ामोशी से तूफ़ान सह लेते है जो,
उन बादलों ने इज़हार की बारिश नहीं की.
.
.
तुम्हे ही माना है रहनुमा अपना,
और किसी चीज़ की ख्वाहिश नहीं की.
.
.
– अज्ञात

Advertisements