तुझसे मोहब्बत नहीं हमें

.
.
ऐसा नहीं के तुझसे मोहब्बत नहीं हमें,
पर ग़म रोज़ रोज़ सहने की आदत नहीं हमें.
.
.
हर बार तेरे सामने सर झुका लिया,
और फिर भी देख तुझसे शिकायत नहीं हमें.
.
.
तू ऐतबार कर के तुझे चाहते है हम,
तेरे सिवा किसी की भी चाहत नहीं हमें.
.
.
हम जानते है तू भी है तन्हा हमारे बिन,
औरों से पूछने की ज़रुरत नहीं हमें.
.
.
कैसे रहेंगे बिन तेरे? अब बात मान ले,
तेरे बगैर जीने की आदत नहीं हमें.
.
.
– अज्ञात

Advertisements