कैसा होगा?

.
.
तुझको खो कर फिर से पाना कैसा होगा,
दिल में फिर से आग लगाना कैसा होगा?
.
.
कितनी सारी बातें हैं तुझसे कहने की,
तुझसे मिलके चुप हो जाना कैसा होगा?
.
.
कितनी मुश्किल से दुनिया में घुल पाया था,
अब तुजमे फिर खो जाना कैसा होगा?
.
.
रफ्ता-रफ्ता मर-मर के तुझको भूला था,
याद में तेरी फिर जी जाना कैसा होगा?
.
.
जिस पन्ने पर मैंने खुद को छोड़ दिया था,
उस पन्ने का फिर खुल जाना कैसा होगा?
.
.
ना कोई रिश्ता था तुमसे, ना बंधन था नाम का,
फिर से रिश्तों का सैलाब आना कैसा होगा?
.
.
– अज्ञात

Advertisements