क्या असर करेंगे?


.
.
एक जुस्तजू में ख़ुद को हम दरबदर करेंगे,
याने तलाश उनकी हम उम्र भर करेंगे.
.
.
राहें मिले, न मंजिल, अब वो सफ़र करेंगे,
अपना पता चला तो अपनी खबर करेंगे.
.
.
ले लेंगे जान मेरी उनकी जुदाई के पल,
इस से ज़ियादा मुझ पे ये क्या असर करेंगे?
.
.
महेमाँ समझ के दिल ने उनको पनाह दी थी,
सोचा नहीं था उनके ग़म दिल में घर करेंगे.
.
.
दिल की लगी तू दिल की राहों से दूर हट जा,
फुरसत कभी मिली तो तुझ पे नज़र करेंगे.
.
.
वो ज़ुल्म ढाया ग़म ने, लब सी लिये है हमने,
दिल की ज़ुबां से उनका शिकवा मगर करेंगे.
.
.
खूने-जिगर से हमने उन पर ग़ज़ल लिखी है,
अशआर इस ग़ज़ल के उन पर असर करेंगे?
.
.
– हर्ष ब्रह्मभट्ट

Advertisements

2 thoughts on “क्या असर करेंगे?

  1. महेमाँ समझ के दिल ने उनको पनाह दी थी,
    सोचा नहीं था उनके ग़म दिल में घर करेंगे.
    મસ્ત શેર.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s