ज़हन में आता क्या है?

.
.
अपनी तस्वीर को आंखोसे लगाता क्या है?
एक नज़र मुझ पर भी डाल तेरा जाता क्या है?
.
.
मेरी रुस्वाई में वोह भी है बराबर के शरीक,
मेरे किस्से मेरे यारों को सुनाता क्या है?
.
.
पास रहकर भी ना पहेचान सका तू मुझको,
दूर से देखकर अब हाथ हिलाता क्या है?
.
.
उम्रभर अपने गरेबान से उलझनेवाले,
तू मुझे मेरे ही साए से डराता क्या है?
.
.
मैं तेरा कुछ भी नहीं हूँ मगर इतना तो बता,
देखकर मुझको तेरे ज़हन में आता क्या है?
.
.
– क्रिश्ना

Advertisements